ज्ञान गंगा की अमोघ चुस्की

एक अप्रैल से बैंकिंग नियमों में हो रहा बहुत बड़ा बदलाव, जानें

भारत समेत पूरा विश्व कोरोना वायरस से परेशान है।भारत में कोरोना पीड़ितों का आंकड़ा थमने का नाम नही ले रहा है,यह आंकड़ा 1000 से भी ऊपर चला गया है।इस वायरस से भारत में मरने वालो की संख्या 21 हो गई है।पूरा देश लॉक-डाउन से गुजर रहा है।सरकार द्वारा घरों से नही निकलने के लिए कड़ी हिदायत भी दे रही है।कुछ जरूरी कार्यालयो को छोड़कर सभी को घर से काम करने के लिए कहा गया है।इसी लॉक-डाउन के बीच एक बड़ी खबर बैंकों को लेकर आ रही है।

1 अप्रैल से 6 सरकारी बैंको का अस्तित्व मिट जायेगा यानि की 1 तारीख से इन बैंको का नामों निशान मिट जायेगा।इसमे से इलाहाबाद बैंक से सभी ब्रांच,सिंडिकेट बैंक,ओरिएण्टल बैंक ऑफ कॉमर्स,यूनाइटेड बैंक ऑफ़ इंडिया,आंध्र बैंक और कॉर्पोरेशन बैंक शामिल है।इन सभी बैंको का 1 अप्रैल से दूसरे बैंको में विलय होने जा रहा है। यानि की 1 अप्रैल से इनके सभी ग्राहक नए बैंक के ग्राहक के तौर पर जाने जायेंगे।

1. 1 अप्रैल से इलाहाबाद बैंक के सभी ब्रांच इंडियन बैंक में विलय हो जाएगा, यानि की 1 तारीख से इलाहाबाद बैंक नही,इंडियन बैंक होगा।

2.सिंडिकेट बैंक केनरा बैंक के हो जायेगा।सभी ग्राहक केनरा बैंक के नाम से जाने जायेंगे।सभी काम अब से केनरा बैंक में होगा।

3.ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स और यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया 1 अप्रैल से पंजाब नेशनल बैंक के हो जाएंगे।सभी काम इन बैंक के ग्राहकों का अब से पंजाब बैंक में होगा।आपको बता दे की देश का तीसरा सबसे बड़ा बैंक है पंजाब नेशनल बैंक।इससे पहले बैंक ऑफ बड़ोदरा और स्टेट बैंक ऑफ इंडिया का नंबर आता है।

4.आंध्रा बैंक और कॉर्पोरेशन बैंक 1 अप्रैल को यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में विलय हो जायेगा।इन बैंक के सभी ग्राहकों को काम अब यूनियन बैंक में होगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *