ज्ञान गंगा की अमोघ चुस्की

एक ही टेस्ट क्रिकेट खेलकर बनाया ऐसा रिकॉर्ड, आज भी लोग करते हैं याद..

भारत का वह Cricketer जिसके नाम पर Bollywood में Movie भी बनी और Movie को National Award भी मिला

 

90 का दशक मीठी सुपारी की तरह ना जाने कितने युवाओं के अंतर्मन का साक्षी रहा है, आज आपको उसी 90 के दौर के अंतिम पड़ाव की तरफ ले जाने की कोशिश करते हैं..

90 का दशक खत्म हो गया था और हम 2000 में प्रवेश कर चुके थे और आमिर खान के गाने -देखो 2000 ज़माना अा गया मिलकर जीने का बहाना आ गया की तर्ज पर एक नए दशक के प्रारंभ की खुशियां मना रहे थे
उस समय का हर युवा पिक्चरों के साथ-साथ क्रिकेट को ट्रंप कार्ड की तरह अपने दिल में बसा कर रखना चाहता था, उस समय क्रिकेट का मतलब त्रिदेव हुआ करता था, अरे पिक्चर वाला नहीं बल्कि क्रिकेट वाला जी हां ठीक समझा आपने- सचिन, गांगुली और द्रविड़ जिनके किस्से आज भी बड़े चाव से सुनाए जाते हैं|

 

आज की हमारी कहानी भी एक ऐसे क्रिकेटर की है जिसने केवल एक टेस्ट में ऐसे-ऐसे रिकॉर्ड बनाए जो अपने आप में ही एक रिकॉर्ड है|

साल था 2001 भारतीय क्रिकेट टीम मैच फिक्सिंग के दर्द से अभी नई-नई ही उभर कर आई थी और भारत की कमान अपने सबसे भरोसेमंद खिलाड़ी यानी प्रिंस ऑफ बंगाल सौरव गांगुली के कंधों पर थी, उसी समय इंग्लैंड की टीम भारत आई हुई थी और भारतीय चयनकर्ताओं ने इंग्लैंड के लिए भारतीय टीम का ऐलान किया,

जिसमें 3 नए चेहरे भी थे केरल से Tinu Yohanan, Railway से Sanjay Bangar जिन्हें 2019 तक आपने भारतीय टीम के साथ ड्रेसिंग रूम में बैठा हुआ जरूर देखा होगा|
तीसरे Iqbal Siddiqui जी हां वही Iqbal Siddiqui जिनकी चर्चा हम आज करने वाले हैं 2005 में जब नागेश कुकुनूर की क्रिकेट से Related एक Movie आई थी, तब ऐसा लगा था कि इस Movie का संबंध इनसे तो नहीं है, ऐसा लगना भी जायज था क्योंकि Movie का नाम भी IQBAL ही था |
जिसमें Shreyash Talpade ने मुख्य भूमिका निभाई थी लेकिन असलियत में उस Movie की कहानी इकबाल सिद्दीकी की कहानी से बिल्कुल अलग थी
खैर पिक्चर की बातें तो हो गई अब कहानी पर आते हैं।
इकबाल सिद्दीकी का जन्म 26 दिसंबर 1974 को महाराष्ट्र के औरंगाबाद में हुआ था

औरंगाबाद से निकलकर यह खिलाड़ी 2001 में जब भारतीय टीम का हिस्सा बना तब भारतीय टीम एक अच्छे ऑलराउंडर की खोज में थी और उस समय इंग्लैंड सीरीज के लिए भारतीय चयनकर्ताओं ने संजय बांगड़ और इकबाल सिद्दीकी के रूप में दो Allrounder का चयन किया, इकबाल सिद्दीकी को उसी टेस्ट में अपनी ही जीवन का एकमात्र टेस्ट खेलने का मौका मिला

जिसमें उन्होंने 32 रन देकर 1 विकेट चटकाए और भारत के लिए विजयी रन भी अपने बल्ले से ही जड़ दिया
इकबाल सिद्दीकी मनोज प्रभाकर के बाद दूसरे ऐसे भारतीय हैं जिन्होंने अपने Debut टेस्ट में बैटिंग और बॉलिंग दोनों में भारत की तरफ से ओपनर की भूमिका निभाई

साथ-साथ वे दुनिया के अकेले ऐसे क्रिकेटर हैं जिन्होंने केवल एक टेस्ट मैच खेलते हुए बैटिंग और बॉलिंग दोनों में ओपनर की भूमिका निभाई हो
इसके साथ-साथ Jeff Moss के बाद अपने जीवन के एकमात्र टेस्ट में विजयी रन बनाने का रिकॉर्ड भी इकबाल सिद्दीकी के नाम है|
Iqbaal Siddiqui ने भारत के लिए भले ही केवल एक ही टेस्ट मैच खेला हो, लेकिन उनका यह रिकॉर्ड उस एक टेस्ट मैच और उनके नाम को स्वर्णिम अक्षरों में दर्ज कराने के लिए काफी है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *