ज्ञान गंगा की अमोघ चुस्की

हाथी और बिल्ली की शौच से बनती है विश्व की सबसे महंगी कॉफी,दाम सुनकर होंगे हैरान ?

 

दिव्यांश यादव.

हाथी और बिल्ली की शौच से बनी होती हैं, विश्व की सबसे महंगी कॉफी !!

ये लेख लिखते समय खुद पर विश्वास करना मुश्किल हो रहा था पर ये संसार अजब गजब है और यहां के खान पान उससे भी ज्यादा अनूठे !!

कॉफी पीने के शौकीन तो आप होंगे ही, मजेदार बात ये है कि भारत एशिया में कॉफी का तीसरा सबसे बड़ा उत्पादक और निर्यातक देश है तब भी यहां पर अधिकतर लोग चाय के सेवन को जिंदगी का हिस्सा मानते हैं लेकिन उसी तरह आज भारत में भी कॉफी को चाय के अतिरिक्त सेवन किया जाता है !

लेख पढ़ने के बाद कहीं आप कॉफी पीना ना बन्द करदे ये सोच कर की कुछ कॉफी ऐसी होती है जिनमें हाथी और बिल्ली का शौच मिलाया जाता है, लेकिन घबराने की कोई बात नहीं है !

ये कॉफी अधिकतर विदेशों में मिलती है परन्तु आज कल दुनिया की सबसे महंगी कॉफी ‘सिवेट’ का उत्पादन भारत में शुरू हो गया है. कर्नाटक के कुर्ग जिले में इसका उत्पादन हो रहा है. खास बात यह है कि सिवेट बिल्ली के मल (पूप) से बनती है.

वैश्विक बाज़ार में सिवेट काफी की कीमत 20-25 हजार रुपये किलो है. ये कॉफी उन बीन्स से बनती है जो कि सीवेट कैट्स पचा नहीं पाती है. ये बीज उसके मल से चुन लिए जाते हैं. इसके बाद उसे धोकर भूना जाता है. सिवेट कॉफी को लुवर्क काफी भी कहते हैं. कॉफी के पकने के चरण में सिवेट बिल्ली कॉफी की चेरी को खाती है जिसका गूदा वह पचा लेती है लेकिन गूदे के अंदर के बीच को वह पचा नहीं पाती है . यह बीन मल त्याग के समय साबूत निकल जाता है.

ब्लैक आइवरी ब्लेंड :-

ब्लैक आइवरी ब्लेंड भी दुनिया की सबसे महगीं कॉफी में से एक है। इस कॉफी को हाथी की पॉटी में से निकाला जाता है। उत्तरी थाइलैंड में बनाई जाने वाली ये कॉफी दरअसल हाथी की पॉटी यानी लीद में शामिल बीजों से तैयार होती है। हाथी कच्ची फलियां खाते हैं, उसे पचाते हैं और लीद गिरा देते हैं। बाद में उसी गोबर में कॉफी के बीज निकाले जाते हैं। इस कॉफी की कीमत 1100 डॉलर है यानी 67000 रुपए।

अब सोचिए इतनी महंगी कॉफी को किस ढंग से तैयार किया जाता होगा, कितनी सफाई होती होगी पर हां आप कॉफी पीना मत छोड़ना ¡

Leave a comment

Your email address will not be published.