ज्ञान गंगा की अमोघ चुस्की

संयोग संख्याएं और वो CO-Incidence जो आम से खास बन जाते है

संयोग संख्याएं और वो CO-Incidence जो आम से खास बन जाते है

क्या आप संयोग, संख्याएं,अंकशास्त्र  इन सभी चीजों पर विश्वास करते हैं?

हालांकि  संख्याओं का हमारे जीवन में एक महत्वपूर्ण स्थान  था, है और हरदम रहेगा,
जीवन से लेकर मृत्यु  तक इस  कालचक्र में  ना जाने कितने संयोग  यूं ही बन जाते हैं,
खेल,राजनीति,चिकित्सा,मनोरंजन,विज्ञान 
यह संयोग किसी से भी अछूता नहीं है, हर जगह अपनी उपस्थिति दर्ज करा ही  देता है ऐसे ही कुछ संयोगों से  आपको हम रूबरू कराना चाहते है।

Linkoln-Kennedy-Numerology

Abraham Lincoln  का नाम तो जरूर ही सुना होगा, जी हां वही जो संयुक्त राष्ट्र अमेरिका के राष्ट्रपति हुआ करते थे, कहते हैं कि उनके और John.F. Kennedy  के बीच का संयोग कुछ ऐसा था जो हमें आश्चर्यचकित कर देता है।
ये co-incidences  बस बनते चले गए, और इसने शक्ल ले लिया Numerology  का,
तो आइए आपको NUMEROLOGY  और Co-incidences  की दुनिया  की सैर करा लाते हैं

अब बस गिनती शुरु कर दीजिए

1)Kennedy  के नाम में अंग्रेजी के जितने अक्षर आते हैं ठीक उतने ही अक्षर Lincoln  के नाम में भी आते हैं
Kennedy=7 & Lincoln=7

John.F.-Kennedy
Source: Google Images

Kennedy के हत्यारे का नाम था Lee Harvey Oswald
और
Lincoln   के हत्यारे का नाम था John Wilkes Booth
2) Lee Harvey Oswald 
के नाम में अंग्रेजी के जितने अक्षर आते हैं ठीक उतने ही अक्षर John Wilkes Booth  के नाम में भी आते हैं।

Lee Harvey Oswald=15 & John Wilkes Booth=15

3) Lee Harvey Oswald  का जन्म John Wilkes Booth  के ठीक 100 साल बाद हुआ था

4) Kennedy  जब राष्ट्रपति चुने गए थे तो साल था
1961 और जब Lincoln  राष्ट्रपति चुने गए थे तब साल था 1861,  यानी Kennedy
Lincoln  के ठीक 100 वर्ष बाद राष्ट्रपति चुने गए थे

Abraham-Lincoln
Source: Google Images

5) Kennedy  और Lincoln  दोनों की मौत सर के पीछे गोली लगने से हुई थी।

6) Kennedy  और Lincoln  दोनों भी जब मारे गए थे तो दिन भी एक ही था= शुक्रवार

7) Lincoln  मारे गए थे Ford Theatre  में,

8) Kennedy  मरने के वक्त  जो कार चला रहे थे, वह कार भी Ford Company की थी  और उस कार का मॉडल क्या था पता है?

उस कार की मॉडल का नाम थाLincoln
यह दुनिया ऐसी तमाम संयोगों से भरी पड़ी है। पर हां उनमें से  जो नजर जाते हैं  वह कहानी बन जाते हैं।

ठीक 100 साल बाद जो घटनाएं घटी   उन्हें एक ऐसा लगा जैसे कि फिल्मों की तरह यह कहानियां Scripted हो, पर जो भी हो  ऐसे co-incidences   हमें सोचने पर मजबूर  जरूर कर देते हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.