ज्ञान गंगा की अमोघ चुस्की

पिछड़ेपन के अंधेरे को रोशनी देता: गोरखपुर का एक अनोखा SUPER30 ग्रुप

पिछड़ेपन के अंधेरे को रोशनी देता :गोरखपुर का एक अनोखा SUPER30 ग्रुप

सुबह की पहली किरणों के धरती में पहुंचने से पहले ही उठकर सपनों को संजोने की दिशा में कदम बढ़ाते हुए,सिर्फ एक मकसद गांव को पिछड़ेपन से दूर,एक अलग पहचान दिलाने को आतुर,अपने पिता के कंधो से कंधा मिलाकर घर की जिम्मेदारियों के साथ कुछ नवयुवक निकल जाते है अपने सपनों का भारत संजोने, 

जी हां ,हम बात कर रहे हैं अपनी एक अलग पहचान बना चुका *गर्दा गैंग ग्रुप*की  जो उन SUPER30 नव युवकों का एक ऐसा संघ है ,जो सपने भी देखते हैं और उन सपनों की नींव को अपनी मेहनत से पक्का भी करते हैं,और अपने सपनों का भारत बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ते, 

गोरखपुर जिले  का एक प्रसिद्ध गांव मामखोर जो शायद किसी पहचान का मोहताज नहीं है 

 आपको बता दें कि यह वही मामखोर गांव है जो पहले श्री प्रकाश शुक्ला के लिए जाना जाता था। वर्तमान गोरखपुर सांसद  श्री रवि किशन शुक्ल का संबंध भी इसी मामखोर गांव की माटी से है, 

इसी मामखोर गांव से सटे एक गांव हैं बरवल ईश्वरी प्रसाद जहां इस SUPER30  ग्रुप की नींव रखी गई।

gorakhpur-super-30 hindi इसी बरवल ईश्वरी प्रसाद  और इसके पड़ोसी गांव -बरवल दीगर,चिमचा, गौरपार के वो 17 से 24 वर्ष के नवयुवक एकजुट होकर सरकारी नौकरी की तैयारी में एक दूसरे कि सहायता करते है,एक दूसरे का अनुभव शेयर करते है,अपने जेब खर्च से मिले पैसों को इक्कठा कर के समाजिक कार्यों के द्वारा इन युवाओं ने अब अपनी मेहनत से ,अपनी ऊंची सोच की वजह से अपने गांव का नाम हर क्षेत्र में ऊंचा कर रहे है,इस ग्रुप का निर्माण 15/2/2018 को हुआ,लेकिन इतने कम समय में इन युवकों ने *गर्दा गैंग ग्रुप* को ऊंचाई की ओर अग्रसर किया है,हाल ही में इस गर्दा गैंग ने खेलो,पढ़ो और आगे बढ़ो के नारे के साथ ,पहली बार बरवल कब्बडी लीग * बी.के. एल* का शानदार शुभारम्भ निशुल्क किया,

चुनावों में अधिक वोट पड़े इसके लिए जागरूकता अभियान चलाया,

सुबह गांव के युवाओं को निशुल्क योग ट्रेनिंग के द्वारा नई ऊर्जा का संचार किया, 

इस गर्दा गैंग के सदस्य अपने जुटाए गए पैसों की मदद से छोटे बच्चों को निशुल्क शिक्षा का ज़िम्मा उठाए हुए है,

बेसहारा ग़रीबों को स्वास्थ्य लाभ दिलाने के लिए  आयुष्मान गोल्डन कार्ड बनवाने में मदद की, 

Gorakhpur-Super-30 gyanchuskiइस गर्दा गैंग के सदस्य सरकारी नौकरी के लिए इतने संघर्ष करते हुए पढ़ाई कर रहे है और गांव के पिछड़ेपन को दूर करने के लिए साक्षरता अभियान हो या सफाई अभियान सभी में बढ़ चढ़ कर अपनी उपस्थिति दर्ज कराते रहे है,पुलवामा हमले पर गुस्सा हो या कैंडल मार्च ,हर बार ज़िम्मेदारी के दवाब में भी कुछ अलग करने की प्रेरणा इसे पूरे क्षेत्र में पहचान दिला रही है, इस गर्दा गैंग ने पर्यावरण को सही दिशा में ले जाने के लिए  100 पेड़ो का वृक्षारोपण कार्यक्रम की शानदार पहल की है,यह समस्या हर वक्त रहती है कि लोग पेड़ तो लगा देते है सेल्फी के लिए ,पर उसे पानी देना,सुरक्षा देना भूल जाते है,इसी समस्या के समाधान के लिए हर दो दिन में मीटिंग होती है, इस ग्रुप ने कई चेहरों पर मुस्कान ला दी है,और इसका संघर्ष लगातार जारी है – पिछड़ेपन की बेड़ियों को तोड़कर नए भारत के निर्माण की सही दिशा में 

 जयहिन्द

Leave a comment

Your email address will not be published.

2 thoughts on “पिछड़ेपन के अंधेरे को रोशनी देता: गोरखपुर का एक अनोखा SUPER30 ग्रुप”