ज्ञान गंगा की अमोघ चुस्की

History about the bravery of indian Army


Naxal-Operation-indian-forces Gyanchuski

भारतीय फौज दुनिया की सबसे बड़ी और बेमिसाल आर्मी है। हमारी सेना ने बहादुरी, बलिदान और शौर्य की अद्भुत मिसाल बनाई हैं। इतिहास सेना की गौरवशाली परंपराआों की दास्तानों से भरा पड़ा है।

14 जनवरी को आर्म्ड फोर्सेस वेटरेंस डे के रूप में मनाया जाता है। भारत के पहले थलसेनाध्यक्ष फ़ील्ड मार्शल केएम करिअप्पा 14 जनवरी 1953 को रिटायर हुए थे। उन्होंने 14 जनवरी 1949 को ब्रिटिश राज के समय के भारतीय सेना के अंतिम अंग्रेज शीर्ष कमांडर जनरल रॉय बुचर से यह पदभार ग्रहण किया था। यह दिन सैन्य परेडों, सैन्य प्रदर्शनियों व अन्य आधिकारिक कार्यक्रमों के साथ नई दिल्ली व सभी सेना मुख्यालयों में मनाया जाता है। इस दिन उन सभी बहादुर सेनानियों को सलामी भी दी जाती है जिन्होंने कभी ना कभी अपने देश और लोगों की सलामती के लिये अपना सर्वोच्च न्योछावर कर दिया। मेरठ कैंट में सेना पुष्प चक्र अर्पित कर शहीदों को श्रद्धांजलि देगी और वीर नारियों एवं पूर्व सैनिकों का सम्मान करेगी। वीर अब्दुल हमीद सैनिक इंस्टीट्यूट में एक भव्य समारोह में वेटरेंस, वीरता पुरस्कार विजेताओं, वीर नारियों-बेटियों और युद्धों में अंग गंवा चुके दिव्यांग पूर्व सैनिकों का सम्मान किया गया जाएगा।

युद्ध और शांति दोनों में बनाई मिसाल

भारतीय सेना ने युद्ध और शांति दोनों ही स्थितियों में मिसाल बनाई है। आजादी के ठीक बाद 1947 में जम्मू-कश्मीर में हालात संभालने से लेकर बाद में हुए युद्धों में हमारे शूरवीरों ने बड़ी भूमिका निभाई। ऑपरेशन ब्लू स्टार से लेकर मुजफ्फरनगर दंगे और हरियाणा में जाट आरक्षण आंदोलन के उग्र हो जाने के बाद शांति बहाली में मेरठ कैंट में तैनात सेना की टुकड़ियों ने अहम भूमिका निभाई है। सन 1971 में बांग्लादेश की आजादी में भारतीय सेना की अहम भूमिका रही। सन 1971 की जंग इस मायने भी अहम है कि भारतीय फौज ने 93 हजार से ज्यादा पाकिस्तानियों को युद्धबंदी बनाया जो इस मायने में दुनिया में भर में एक रिकार्ड है।

आर्मी वेटरेंस नोड को एक साल पूरा

सोमवार को पश्चिमी यूपी सब एरिया में वेटरेंस और वीर नारियों के वेलफेयर के लिए खोली गई आर्मी वेटरेंस नोड को एक साल पूरा हो जाएगा। आर्मी डे मौके पर ही 2018 में मेरठ कैंट में वेटरेंस नोड का शुभारंभ किया गया था। माल रोड पर सब एरिया कैंटीन और एक्स आर्मी सर्विसमैन लीग के दफ्तर के पास ही वेटरेंसii नोड है। यहां स्टेट बैंक के ई सेवा केंद्र का भी है और एक हेल्प डेस्क सुविधा भी दी गई है।

Leave a comment

Your email address will not be published.