ज्ञान गंगा की अमोघ चुस्की

ठेले पर फ्राई चिकन बेचकर कैसा बना एक वृद्ध केएफसी का मालिक

The real story of Colonel Sanders & KFC in Hindi

संघर्ष से जिंदगी जीने के बाद अपनी मेहनत से नाम करने वाला लोगो के लिए मिसाल बन जाते है,आज एक ऐसी ही शख्सियत की दुख भरी जिंदगी से वाक़िफ़ करना चाहूँगा,जो अब किसी परिचय की मोहताज नहीं, क्या आप भरोसा कर सकते हो कर्नल सैंडर्स की ये कहानी किसी के भी होश उड़ा देने के लिए काफी है| एक ऐसा इंसान जो जीवन भर संघर्ष करता रहा लेकिन अपने अंतिम दिनों में सफलता की एक ऐसी मिसाल पेश की जिसे सुनकर कोई भी दाँतों तले उंगलियां दबा लेंगे। 

kfc-story-hindiफेलियर से अरबपति बनने तक का सफर   :                                     

1….. ….जब वो 5 साल के थे तब उनके पिता का देहांत हो गया

2………16 साल की उम्र में स्कूल छोड़ना पड़ा

3………17 साल की उम्र तक उन्हें 4 नौकरियों से निकाला जा चु

4………18 साल की उम्र में ही शादी हो गयी,जिससे घर की पूरी ज़िम्मेदारी इनके कंधो पर आ गई 

5………आर्मी में गए वहां से निकाल दिया गया।                           

6………Law स्कूल में दाख़िला लेने गए, रिजेक्ट कर दिया

7………लोगों के insurance(बीमा) का काम शुरू किया जिसमें उन्हें बहुत घाटा हुआ.

8………19 साल की उम्र में पिता बने,20 साल की उम्र में उनकी पत्नी उनको छोड़ के चली गयी और बच्ची को अपने साथ ले गई।                   

9…….एक होटल में बावर्ची का काम किया,तब अपनी खुद की बेटी से मिलने के लिए उसे किडनेप करने की कोशिश की,पुलिस ने उन्हें जेल भेज दिया।    

10…65 साल की उम्र में रिटायर हो गए,रिटायरमेंट के बाद पहले ही दिन सरकार की ओर से मात्र $105 का चेक मिला,कई बार आत्महत्या करने की कोशिश की,लेकिन हर बार वो असफल हो जाते,एक बार एक पेड़ के नीचे बैठ कर अपनी जिंदगी के बारे में लिख रहे थे तभी अहसास हुआ कि अभी बहुत कुछ करना बाकि है। वो एक शानदार कुक(बाबर्ची) थे।      

Colonel-Sanders-&-KFC-hindi
Source: Google Images

अर्श से फर्श तक का सफर : 

100$ के चेक से $87 निकाले और कुछ चिकन फ्राई करके उसे गली गली में बेचने लगे याद कीजिये जो इंसान 65 साल की उम्र में आत्महत्या करना चाह रहा था,वही इंसान यानि कर्नल सैंडर्स 88 साल की उम्र में बने अरबपति यानि Kentucky Fried Chicken (KFC) जैसे ब्रांड का संस्थापक,आज दुनिया भर में KFC के होटल हैं और आज KFC एक बहुत बड़ा ब्रांड बन चुका है।

आप चिकन पसंद करते हो या नहीं, ये अलग बात है। लेकिन कर्नल सैंडर्स का संघर्ष वास्तव में दिल चीर देने वाला है। एक इंसान जिसने अपना पूरा जीवन संघर्ष करते हुए निकाल दिया। यहाँ तक कि 65 वर्ष की आयु में आत्महत्या करने की कोशिश भी की, वही इंसान 88 साल की उम्र तक अरबपति बन गया।

दोस्तों किस्मत कभी भी पलट सकती है। बहुत से लोग ये शिकायत करते हैं कि उनकी सारी जिंदगी दुखों से संघर्ष करते निकल गयी। कर्नल सैंडर्स की कहानी उन लोगों के लिए एक वरदान साबित हो सकती है। उनकी कहानी बताती है कि कभी निराश मत होइये, अपनी अंतिम सांस तक प्रयास कीजिये, क्यूंकि किस्मत पलटते देर नहीं लगती।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *